Sunday, August 16, 2009

Saali ki chudai

hi i am rachna with a story of my friend in his won words.he mailed me his chudai story and i am only going to pasting it here.

hi friends, myself rajeev is here to tell my first sex story with a girl who is my brother's sali.first i am describing her hot sexy body. kya gajab ki mal thi, how i tell u? 17 sal ki kamsin jawani, bhare kase gore jism, najuk gulabi rasile hoth, rasgule jaise rasile gal, bade bade mastani chuchiya.kisi angel ki tarah dikhti thi. mai use dekhkar pagal ho jata,mai kya koi bhi ho jayega,meri najre uske machalte huye gol gol tarbujon ko niharne lagti, mera lund chatpatane lagta, man karta ki use wahi patak kar uske bur ko chir dalu.i think i am quite lucky to have fucked such a hot girl.mujhe use bed tak le jane me jyada samay nahi laga kyuki wo bhi chudwane ke liye tarap rahi thi,bekrar thi apni chuchiya masalwane ke liye.aag dono taraph se barabar lagi hui thi,mai aur wo aapas me mobile par bahut gande majak kiya karte the.wo mujhe hamesa apne yaha aane ke liye kahti. ek bar jab usne mujhe phir se aane ke liye kaha to maine usse puch diya,dogi na??,wo haskar boli,kya loge?ik jawan larke ko ek jawan larki se kya chahiye, ye bhi batana parega mujhe? acha to aise bolo na ki meri gand marni hai,sarma kyu rahe ho larki ki tarah,aao to sahi aisa maja dungi ki bhul nahi paoge ,apni rasili jawani ke rash me puri tarah nahla dalungi tujhe.mera man karta abhi hawa me urkar uske pas pahuch jau.jab maine bola ki kya teri naram si chut mere land ko jhel payegi,kahi phat gai to.to wo boli,mai to bekrar hu pharwane ke liye,bas tu aaja mere raja,apna khambha mere bur ki gahraiyo me utar dal aur rat bhar mujhe chod.maine bola tujhe kya pata meri rani maine kitni bar tujhe sochkar muth mari hai,ab to mai apna ras tere bur me hi utarna chahta hu.tere rasile chuchiyo ka dudh pina chahta hu,unhe ji bharke masalna chahta hu .meri jan apna size batao na plz.wo boli aakar nap lena, maine to abhi napa nai,waise tera size kya hai? mera size??to wo boli chodu tere khute ka size? maine kaha maine bhi nahi napa to wo boli acha mai hi nap lungi.maine kaha kaise,wo boli,mere pussy me kitni gahrai karti hai uske aadhar pe.to maine kaha agar teri puri gahrai me mera danda sama gaya to,wo boli simple hai tere dande ki lambai 9 inch hogi.wao to teri bur itni gahri hai,kya maja aayega .meri to aah nikal rahi hai janu,kaise control karu yar tu hi bata na?tune koi larki chodi hai pahle,wo puchi to maine kaha abhi tak to aisi kismat nahi rahi meri.wo boli mai bhi abhi virgin hu yar abhi tak tere liye.maine pucha meri yaad aati hai tujhe.boli der rat tak blue filme dekhti hu,tere lund ki jagah apni unguli se hi kam chala leti hu,bas mere chodu jaldi se aakar meri gand mar,ise bas tera hi intejar hai. hamdono ko hi bas ek hasin rat ki talash thi aur uske liye hame jyada intjar nahi karna pada. chath puja me bhabhi apane mayake jane lagi,bhaiya ko chuti nahi thi to unhone mujhse kaha ki bhabhi ko chor aao. mai jhat se taiyar ho gaya.raste bhar mai use chodne ke bare me hi sochta raha.udhar uski chut bhi mere land ka besbri se intjar kar rahi thi. aakhir mai apni manjil par pahuch hi gaya. mai karib 8 mahine bad use dekh raha tha. uski jawani aur bhi nikhar gai thi,pari jaisi khubsurat lag rahi thi. usne mera saman mere bedroom me rakh diya.mai hath muh dhokar bed par let gaya.kuch der bad meri dream girl muskurate huye nasta lekar aai. maine kaha,jis bhukh ko bujhane yaha aaya hu,wo kab bujhegi??wo muskurane lagi aur mere pas hi baith gai. maine use khichkar apni god me le liya aur haule haule se uske phul ko dabate huye bola,hiii kitni pyari hai ye meri rani. wo boli,rat to hone do mere raja, phir mai tujhe apni jawani ka ras pilati hu.wo machalte huye boli ye jawani aaj tujhpe lut jayegi? mera land machalne laga aur maine bina kuch soche use bed par gira diya aur uske upar chadhkar use rondne laga. lekin usne mujhe aur aage nahi badhne diya aur mujhe ek taraph hatakar bed se uthkar khadi ho gai. kahne lagi, kuch der apne land ko nahi samhal sakte,koi dekh leta to,rat to hone do,tumhe kya lagta hai meri chut kam tarap rahi hai.maine sorry kaha to wo mujhse lipat kar mere galo aur hotho par chumbano ki jhari laga di aur phir jane lagi aur jate jate boli,rat ko taiyar rahna. aakhir wo raat aa hi gai jiska mujhe na jane kab se intjar tha.sab khana khakar sone chale gaye.maine bhi khana khakar apane bedroom me aa gaya aur uska besbri se intjar karne laga.sardi ka din tha,maine rajai dal liya apane upar,kewal underwear me aa gaya aur uske ander hath dal kar use sahlane laga.i think 10 se kuch jyada samay hua hoga,mere sapno ki sahjadi aa pahuchi aur aate hi rajai me ghuskar mujhse lipat gai. maine use dabochte huye kaha oh meri jan,kab se mera land taraph raha hai.wo haste huye boli,achha ab sant kar deti hu tere is dande ko.usne mujhe kas kar jakar liya aur mere hotho ko apne rasile hotho se chusne lagi.uske bade bade boobs mere sine me gadne lage.aur mere hath uski khabar lene lage.mai uske upar chadh gaya.uske kapde ko utarne laga.usne bra nahi pahan rakhi thi.phir maine uske pajame ko bhi utar dala aur ab wo sirf panty me thi.maine bhi apni baniyan utar dali aur sair karne nikal pada.uske dono katoro ke sath khelne laga.use pure thao me bharne ki koshis karte huye bola,oh my god..kya kayamat hai,uska size 36 se kam ho hi nahi sakta. mai use jor jor se masalne laga.usne mera underwear nikal diya aur mere dande ke sath khelne lagi.mere land ko apane dono hatho me bharkar haste huye boli,yaar bahut moti hai,meri chut to phat hi jayegi,plz dhire dhire chodna.uske garm hatho ka sparsh pakar mera land aur kada ho gaya. mai madhosh hote huye bola,darling ise chuso na please.why not my dear,ye kahkar wo land ko apane muh me lekar chusne lagi.mai exitement me apne sir ko hilane laga.wo bade maje lekar chus rahi thi.mai bahut jyada garam ho chuka tha.maine use bed pe patak diya aur uski panti ko noch kar phek diya.hamdono puri tarah nange ho chuke the.usne mujhe apne upar chadha liya.ab mai thik uske upar tha,mere land uske bur se takrane lage aur mai sihar gaya.wo bhi bekrar ho gai lekin mai bahut jaldi nahi karna chahta tha.use bhi puri tarah ready kar dena chahta tha.mai uske nipples aur dono chuchiyo ko pakarkar bekrari se masalne laga. najuk se usake boobs ko apane dono hatho se maslte huye bola,kya maal ho yaar,hi kitni ras hai teri in mastani chuchiyo me.wo siskariya lene lagi,sayad use dard bhi ho raha tha,boli yaar itni jor se kyu masal rahe ho jara dhire maslo na,mai kahi bhagi thore na ja rahi hu,jitna chahe maslo,masal kar lal kar do,mai rok thore na rahi hu.karib 1 min tak masalne ke bad maine hath ko aaram de diya apne mouth ko kam par laga diya.mere muh uski rasdar chuchiyo ka ras pine lagi,badi mast chuchiya thi yaar,ji bharkar chusa aur wo mujhe kas kar pakre huye thi.phir boli,isi pe lage rahoge ki aage bhi badhoge,mujhe sagar par karao na ab,now fuck me dear as hard as u can. maine bhi bina der kiye huye apane saman ko sidha karte huye kaha,ye lo aur lund ko uski chut me dhakel diya.wo ui ui karne lagi aur mujhse boli, dhire dhire karo na darling,bahut dard ho raha hai. lekin mai control me nahi tha,dhake pe dhake lagane laga,pyase land ko ek hasin si chut ki garmi jo mil rahi thi to ye kaise tham sakta tha. mera land uski chut me periodic motion karne laga aur dhire dhire uska period of oscillation badhne laga,sath sath penetration power bhi tej hone laga. use bhi bharpur maja milne laga aur exitment me apane hoth katne lagi.maine pucha,maja aa raha hai,wo boli yaar kuch pucho mat bas karte raho,kya paini aujar hai teri,meri chut chalni chalni ho rahi hai,aah kya maja hai chudai ka,ab bas marte raho,jannat ki sair kar rahi hu mai.kuch der aise hi chodta raha use,uski chikni gand marta raha ,phir wo boli ki ab style change karte hai, ab doggy style me chodo muje.maine kaha ok,wo thehune ke bal jhuk gai aur maine uski kamar ko pakar liya aur uske ched me apana phanphanata land ghused diya.mai khre hokar uski chudai kar raha tha aur jor jor se dhake laga raha tha,mera pura ka pura land uski chut me sama jata,wo badi muskil se apane aapko us pose me roke huye thi.karib 2 min tak maine use isi pose me choda.phir use bed par muh ke bal letne ko kaha aur uske kamar ke niche ek takiya rakh diya aur uske upar aakar let gaya.phir apane land ko uske hole me dalkar phir se suru ho gaya.apne dono hatho se uske dono mame ko pakar kar masalne laga. takiya gol tha aur uski kamar uspar slide kar rahi thi,uski gand aage piche ho rahi thi aur usme ghusa hua mera land bhi to and fro kar raha tha. dhire dhire mai end ki taraph pahuchne laga aur wo bhi bar bar muje jor jor se thokne ke liye kahne lagi.maine use sidha kiya aur uspar chadhakar let gaya aur apana sara bhar usake upar dal diya.apane land ko jaldi se ghuseda aur vigrously chodne laga.use kas kar dono hatho se pakar liya aur gand ko uthakar tabartor pelne laga. usne bhi mujhe kas kar jakar liya. dhire dhire jharne ke kagar par pahuch raha tha aur meri chodne ki gati andhadhundh badhti ja rahi thi.thap thap...ki aawaje hone lagi,mera hathora uski chut me puri gahrai me sama ja rahi thi.chudai ki raftar badhti chali gai aur ant me mai apani puri sakti lagakar last penetration diya aur mera garam hathaura usaki chut me hi thanda ho gaya. mai nidhal hokar usake upar gir para aur buri tarah haphne laga. wo bhi haph rahi thi aur uska pani bhi nikal gaya tha aur kaphi khus lag rahi thi.maine pucha maja aaya to wo muskurane lagi aur boli wakai tera laura kamal ka hai,mere chut ki pyas ab tumhi bujhana.kuch der aaram karne ke bad wo mere upar sawar ho gai.boli chalo next round suru karte hai aur mere hathaure ko apane hatho me lekar sahlane lage.uske najuk najuk hath mere land ki malis karne lage aur mera aujar phir se chmakne laga.iski dhar pahle se bhi tej thi. maine bola i am ready now to fuck u twice,what about u. me too dear aur mujhe apne upar lekar bed me dhas gai aur boli,mard ki baho me pisne me kya maja hai,kash mai randi hoti,daily naye naye land ka swad leti. maine use dabocha aur bola chalo mai aaj tujhe randi bana hi deta hu.phir mai chal diya apni dagar pe.isbar mai pura time use chodta hi raha. uski jawani ka pura rash maine chus liya. wo mujhe dubara nahi mili.uski saadi ho gai,maine na jane kitni bar use sochkar muth mara.man karta hai usake sasural pahuch jaun aur kam se kam ek bar use phir se chodu.


dd

Monday, July 20, 2009

Dreams comes true

hi, once again i am rachna here with a chudai story but this time its not mine.A boy mail me his fucking story.I am just writing that he mail me in his words..

hi, I am aakash currently a 2nd yr biotech student,19 yr old good looking guy.I am going to write my first chudai story with a girl name sapana.wo mere dur ki relative thi aur riste me meri phupheri sister lagti thi.aur mujhse 2 saal badi thi.
how can i describe her? what a figure she has? she was very hot , sexy and beautiful.uske gore gore gadraye jism, rasbhare gulabi hoth,tani hui badi badi chuchiya,usaki ubhare usake skirt se jhakti rahti , mera man karta ki mai use wahi masal du, apane bra me adjust karti thi wahi jane ,jawani jaise hilore mar rahi thi. kya kayamat thi wo,kisi ko pagal kar dene ke liye kaphi thi. i think i am luckiest boy to had a chance for fucking such a nice girl. now i am going to tell you how i fuck her?
when i was 17 yr old ,first time i goes to her home with my mom and dad in dashara puja.she was living in hostel,but there is holiday,so she was also at the home .she has two sister and one brother,both are younger than her and also living in hostel.because she was elder than me so i called her didi.uski choti sister aur brother mujhe bhaiya kahte hai.mere mom aur dad to 2 din rahkar chale gaye lekin mujhe phupha aur phua ne rok liya aur bole pahli bar aaye ho,ghum phir lo.sapana didi bhi jid karne lagi ki kuch din to raho aur mere papa se kahne lagi ,mama ji ise rahne dijiye na.mere dad ne kaha ki isaki marji,rahna hai to rahe. mai to khud hi jana nahi chahta tha.mai 5-6 din waha raha.mai use didi kahakar hi bulata tha.mai tousake yaha pahli bar gaya tha lekin wo mere yaha kai bar aa chuki thi.sardiyo ke din the aur ham sab kambal me dubke huye bate karte rahte ya t.v dekhte rahte. sapna didi bahut hi sundar thi aur wo 20 saal ki bharpur jawan thi.jab wo mere yaha last time 2 saal pahle aayi thi tab bhi mai use chodne ke sapne dekta tha par us samay himat nahi juta paya.aur na jane kitni bar usake bare me sochkar muth mara.aur sochta tha ki kaise mai apane land ko sant karu.mauka acha mila tha lekin mujhe nahi pata ki wo mere bare me kaisa sochti hai. mere land usake bare me sochte hi khade ho jate.bate karte huye ya tv dekhte hue mai aksar usake god me apana sir rakh deta aur wo pyar se mere balo ko sahlane lagti aur kabhi kabhi mere sir ko apni mulayam boobs ke bich kas leti aur mujhe lagata ki jaise current lag gaya ho.dhire dhire mujhe bhi mahsus hone laga ki uska bhi hal kuch mere jaisa hi hai.mujhe ye pata nahi tha . since hamdono me bhai bahan ka rista tha so hamdono ne bhi iska pura use kiya.phupha aur phua to soch bhi nahi sakte the ki dono aisa bhi kar sakte hai.
aakhir wo rat aa gai jiska mujhe kab se intjar tha .phupha aur phua khana kha kar sone ko jane lage aur hamlogo se bhi bole ki ab so jao.hamne kaha ki aap so jaiye hamsab kuch der bad soyenge. usake bhai aur bahan bhi sone chale gaye.mai isi pal ka to intjar kar raha tha aur sayad wo bhi.maine as usual usake god me apana sir tika diya aur bate banane laga .phir dhire dhire apna sir uski phuli hui chuchiyo par tika diya aur usane bhi mujhe apni gori baho me le liya.mai usase usake persanal life ke bare me sawal karne laga jaise ki tera koi boyfriend hai ya nahi,kis type ka larka pasand hai tumhe, kab saadi karogi like that aur wo bhi muskura kar answer kar rahi thi aur kaha ki uska koi boyfrd nahi hai.usane mujhse bhi pucha ki teri koi hai to maine bhi kaha ki abhi tak to nahi.bate karte karte 10 baj gaye aur hamdono hi kambal me dubke bed par let gaye.maine dhire se light off kar diya aur room me andhera phail gaya.usane jab koi aitraj nahi kiya to meri himat kaphi bada gai aur maine darwaja bhi andar se lock kar diya.wo haskar kahne lagi kya kar rahe ho to maine kaha ki kuch sararat karne ka man kar raha hai.mujhse ab control nahi ho raha tha aur mai jakar usake bagal me let gaya aur kambal ko khichkar use bhi samet liya. maine apna hath dhire dhire usake kamar pe rakh diya aur usake next step ka intjar karne laga.wo bhi bahak rahi thi aur meri taraph ghumkar apana ek hath mere upar dal diya.ab mujhse control nahi ho raha tha .meri saase tej ho rahi thi. mai dhire dhire usaki taraph sarakane laga aur finally hamari garam saase aapas me takarane lagi.maine kas kar use jakar liya aur bola ,I cant control anymore. wo bhi mujhe kaskar dabochte huye boli, mai to kab se jal rahi hu,bahut der laga di tune mujhe bed tak lane me.mai usake garam garam gulabi hotho ko bethasa chumne laga ,wo bhi mera pura sath de rahi thi, usake gudaj ang(chuchiya) meri chatiyo me gadne lage aur mai madhosh hone laga. ham dono hi buri tarah ulajh gaye aur ek dusre ko apane me sama lene ki koshis karne lage. mai apne dono hatho se uske dono ubharo ko usake samij ke upar se hi masalane laga aur wo exitment ke karan chatpatane lagi aur boli, yaar khol kar maslo na,ye to kab se kisi mard se masalwane ko bekrar hai. mai usake samij ke phite khol kar usaki samij utar dali aur apana shirt bhi utar diya.phir apane dono hatho ko usake bra ke andar dalkar dono katoro ko masalne laga.oh god,kya boobs the,makhan ki tarah chikne,mulayam.ise bhi hatao na aur usane apani bra utar dali aur dono chuchiya aajad ho gai.mai usake dono kabootaro par jhuk gaya aur apane muh me lekar bari bari se chusane laga, kitna maja aa raha tha mujhe kaise explain karu.wo ui ui karne lagi aur utejna me apane sir ko idhar udhar karne lagi,barbarane lagi,chuso meri jan,masal dalo is saali ko.mai bhi usaki dono rasili, makhan ki tarah chikani aur rui si mulayam chuchiyo ko badi berahami se masalane aur chusane laga aur usake nipples pe apane daat gadane laga.wo meri dream girl thi.mai usaka dudh pine laga.Idhar mera land bekarar hua ja raha tha aur bahar nikalne ke liye machal raha tha. maine bhi apana pant utar dala aur kewal underwear pe aa gaya aur usake pajame ko bhi khol diya.ab wo kewal panty me aa gai.ise bhi utar dalo aakash,and fuck me now,aahhhhh sant kar do meri pyas,apne land ka didar kara do ise.maine uski panty ko usake badan se alag kar diya aur apana underwear bhi utar diya.mera land ek jhatke se khada ho gaya,aur usane apane hatho me use tham kar sahalane lagi.wo haskar kahale lagi,mast saman hai teri.ek nangi aur itani mast ladki mere land ko sahala rahi thi to ye land bhala kab tak ruk sakta tha.maine use lita diya aur usake upar chadh gaya aur bola ki ab mai apne lund ko nahi rok sakta,wo jhat se boli ha dear ab jaldi se chodna start karo mujhe,ched dalo meri chut ko.mera land usake bur pe ragada marne laga. wo tarapte hue boli ab andar bhi dalo na ise,rub kyo kar rahe ho. mai apane 6 phute land ko pakarkar uske hole me dalne laga.usane mera land pakar kar apni chut ke darwaje pe rakh diya aur maine ek jhatka laga diya.aur wo dard se tilmila gai aur mera land nikal diya,boli yaar bada dard hota hai ,dhire dhire karo na.mera land out of control huye ja raha tha aur maine ek bar phir uske bur me apna land pel diya aur usaka muh dhap diya.aur tabartor dhake lagane laga.dhire dhire use maja aane laga aur wo mera pura saath dene lagi.upar se kai jhatke dene ke bad maine use apne upar le liya.wo mere upar chadh gai aur apane hole me mera land dal liya aur mai apni chutar utha utha kar chodne laga. dono ke muh se ah ah ki aawaje nikal rahi thi aur usake chut se pani chutne ke karan thap thap ki aawaje aa rahi thi.oh.. didi kya mast chij ho tum,tum jise bhi milogi,jite ji swarg pa jayega,kya lucky hoga wo jise tumhara ye rasila khubsurat jism milega,wo kaun hoga jise tumhe daily chodane ko milega .wo haskar kahane lagi , chalo philhal to wo khusanshib tumhi ho,ji bharkar chodo na mujhe,itna chodo ki phir ye chudwane layak nahi rahe. uske bato se mujhe aur josh aa jata aur mai andhadhundh chodne lagta .usake chuchiyo ko bich bich me masalte rahata aur usake gulabi hotho ko chusane lagta.kya mulayam hoth the,usaki to har ek chij lajbab thi.dhire dhire mai ab aakhiri mukam pe pahuchne laga aur usake upar chad kar use jor se daboch liya aur usne mujhe.meri chodne ki raftar kaphi tej ho gai ,strok pe strok dete chala gaya,frequency unexpectedly bahut jyada tej ho gai ,mai apane aap ko bilkul hi bhul gaya aur bas pelta chala gaya ,wo aaaaah aaaaaah,chodte raho,ohhhh meri jaan,teji se,aur teji se,chithari uda do isaki,aaah,haaan haaan aise hi meri jaan,ruko mat,uiiii maa ,kya maja hai tere dande me,aahh jalim, tarpao mat bas pelte raho, kya land hai teri,mai bhi apani puri shakti lagakar use thoke ja raha tha,uske chut ki gaharaiyo me puri tarah apne lund ko utar dena chahta tha,tabartor jhatke diye ja raha tha,usaki makhamali najuk bur ki pelai karte ja raha tha,pata nahi phir aisi mast chut ke darshan ho na nahi,wo aur jor se ,aur jor se chilaati aur mai kahta aur,aur..wo kahti han, han aur jor se,aur jor se mere raja ,saalo se pyasi hai ye,aise shant nahi hogi, ye lo aur mai apane dhake tej karta jata, pura bed hil raha tha,dono buri tarah haph rahe the aur phir last me chodte chodte mai usaki chut me jhar gaya aur sant ho kar usake upar let gaya.dono buri tarah haph rahe the.ye haseen rat mujhe hamesa yad rahega.wo mujhse lipat gai aur kaha ki once more to maine bhi kaha ki ya sure,why no? wo mere land ko pakar kar sahlane lagi aur mera land phir se taiyar hone laga aur kuch hi der me tan gaya.mai usse kahne laga ki tumhe nahi pata maine kitni bar tere bare me sochkar muth mari hai to usane kaha ki tum to bade chupe rustam ho.waise mai bhi tumse chudawane ka khayal kab se pale huye thi jo aaj puri ho gai.ab to tumhe mujhe hamesa chodna hoga nahi to mai mar jaungi aur mere land ko pakarkar hilane lagi aur hasne lagi.maine kaha tumhare is bharpur khilti hui jawani ka rash kaun mard nahi chusna chahega.hi kya mastani chuchiya pai hai tune aur use dono hatho me pakar kar masalne laga aur phir use muh me lekar chusne laga.maine haule haule apana dant uski najuk boobs me gadane laga.usane pyar se mere gaal pe haule se chu kar kaha ki kat kyu rahe ho,chuso na ji bharke. ab tak mai puri tarah dubara taiyar ho chuka tha.aur kaha ki chalo phir se chudai ka khel suru karte hai to usane jhat se kaha why not.i am totally ready..ha ha ha.isbar mai bahut der tak chodta raha aur pahle se jyada maja aaya.wo bhi chahak rahi thi.maine pucha when next to usane kaha jab tum kaho.wo kahane lagi bhai bahan ka rista hone se ab hum dono ke maje hi maje hai aur ye bilkul sach tha.phupha ji dusre jagah job karte the aur wahi rahte the aur phua bhi unke saath hi rahti thi .jab wo chale gaye aur dono bhai bahan bhi chale gaye to wo ghar pe jan bujhkar ruk gai.bas wo aur ek naukrani rah gai ghar pe.unlogo ke jate hi mai dubara pahuch gaya aur humdono karib 2 din tak ek sath rahe.usake madmast jawani ka sara rash mai nichor lena chahta tha.aur in do dino me mai use rat din chodta raha.sayad aage aisa jism mile na mile. mujhe ab jab bhi uski gadrai jawani ko chusane ka man karta hai, use usake ghar pe bula leta hu aur apane dahakte land ko sant kar leta hu.
friends,this is the story of mr aakash. I have impressed with his story,what u say?.his email is aakash500@gmail.com.if any girl want to fuck their ass,she may contact him.

Sunday, May 10, 2009

जब मेरे जीजा ने मुझे चोदा
मै रचना एक बार फिर अपनी चुदाई की कहानिया लेकर आपके सामने हाजिर हु!जैसा की मै पहले भी बता चुकी हु कि मै ईन्जिनियरिन्ग लास्ट ईयर की छात्रा हु!मै अभी २१ साल की हु! मै १६ साल की थी जब मेरे जिजा ने मुझे चोदा था!मेरी एक ही बहन है और मेरे कोई भाई नही है!मै उस समय दिल्ली मे ही रहती थी अपने मम्मी और पापा के साथ!मै भरपुर जवान थी उस समय,मेरे जिस्म गदराये हुये थे,मेरी छातिया बहुत बड़ी हो गई थी और किसी कि मजबुत बाजुवों मे पीसने के लिये बेचैन थी!अपने ब्रा मे मै बड़ी मुश्किल से उसे कैद कर पाती थी!मेरे जीजु अक्सर ही हमलोगो से मिलने के लिये आया करते थे! वो भी दिल्ली मे ही एक सौफ्टवेयर कम्पनी मे काम करते थे!उनकी उम्र उस समय २४-२५ साल रही होगी! उनका रन्ग काला था लेकिन काफी लम्बे थे!मेरी उनसे काफी पटती थी और जब भी आते बहुत बाते होती थी! हमदोनो के बीच बहुत मजाक होता था कुछ अच्छे और कुछ गन्दे भी!
एक बार वो शाम को मेरे यहा आये!उन्हे कल सवेरे निकलना था! रात का खाना खाकर् मम्मी पापा सोने चले गये! मै उनके पास बैठकर बाते करने लगी और हमदोनो के बीच गपसप होने लगे!मम्मी पापा सो चुके थे और रात के करीब साढ़े दस बज रहे थे ! वो आज बहुत खुल कर बाते कर रहे थे और मेरी पर्सनल लाईफ़ से जुड़े सवाल करने लगे जैसे की आपका साईज क्या है१ सेक्स के बारे मे आपका क्या ओपिनियन है१ आप शादी से पहले सेक्स को कैसा मानती है? क्या आप सेक्स का अनुभव ले चुकी है १ आपको सेक्स का कौन सा स्टाइल ज्यादा पसन्द है लाइक दिस! मैने सोच लिया कि आज मै इनकी लंड को शान्त करके हि रहुन्गी! अपनी तो चुत गीली हो ही रही थी! मैने भी सवाल करना सुरु कर दिया१ जब मैने उनसे उनके पेनिस का साइज पूछा तो वो मेरी तरफ एक टक देखने लगे और मैने कौमेंट मार दिया,कभी आपने लौंडिया नही देखी ! वो मुस्कुराने लगे और बोले बहुत देखी है लेकीन आपके जैसी नही!जिसको भी आपका ये रसीला जिस्म मिला होगा वो मर्द भी कितना लकी होगा!मै भी चुटकी लेते हुये बोली चलिये आज आपको भी मै लकी बना देती हु! मैने देखा की उनका पाजामा तना हुआ था और वो एकटक मेरी फुली हुई चुचियो को निहार रहे थे! मेरे चुत की प्यास भी तेज होने लगी और मेरे बुब्स मसलवाने के लिये मचलने लगे!मैने जान बुझकर एक भरपुर अंगड़ाई ली और उनके बेड से उठने का नाटक करने लगी!उन्होने मेरा हाथ पकड़ लिया और अपनी तरफ खीच लिया ! वो बेड पर लेटे हुये थे और मै जानबुझ कर उनके उपर गिर पड़ी ! मेरे बड़े बड़े बुब्स उनकी मजबुत चौड़ी छातियों के बिच दब गई और उन्होने मुझे उपर से जकड़ लिया और अपने होंठो को मेरे नाजुक होंठो पे कसकर रसपान करने लगे! मै उनकी मजबुत बाहो मे कसमसाते हुए बोली कि मै आपकी बीबी नही साली हु ! तो वो बोले की साली आधी घरवाली होती है और साली पे आधा हिस्सा जिजु का होता है! मैने हसकर पूछा कि उपर या नीचे वाला!मै भी गरम हो रही थी और उनके उपर अपना सारा बोझ डाले हुइ थी! उनका लंड मेरी दोनो जन्घो के बीच गड़ रहे थे ! मैने अपनी दोनो चुचियो को उनके सीने पे रगड़ने लगी! मु्झपे खुमारी छा रही थी और दोनो चुचिया कठोर होने लगी!मैने कहा कि जिजु आज रात भर मुझे जी भरकर चोदो,मेरी चुत बहुत दिनो से तड़प रही है लंड का दिदार करने के लिये!इसकी तड़प सान्त कर दो प्लीज! मैने पूछा कि क्या आप मेरी दीदी को डेली चोदते है तो वो बोले क्या करे ये मेरा लंड शान्त ही नही होता!किसि किसि दिन तो मै आपकी दीदी को रात रात भर चोदता रहता हु ,जब भि मौका मिलता है मै चोद देता हु!नहाते वक्त चोदने मे मुझे और भी मजा आता है! लेकिन एक ही चुत मे पेल्ते पेलते बोर हो गया हु!और वैसे भी आपकी दीदी आपकी तुलना मे जीरो है! मुझ पर नशा छा रहा था और मै अपनी फुली हुइ बड़ी बड़ी छातीयों को उनके छातियों पे रगड़ने लगी! मैने कहा जिजु आज आप मुझे इतना चोदो की मुझे आपकी चुदाई हमेसा याद रहे! तो वो बोले की आपकी ईस गदराये जिस्म को मै भी कहा भुल पाउन्गा! आपको कौन मर्द नही चोदना चाहेगा!आपको चोदकर तो मै निहाल हो जाउंगा! और उन्होने अपनी हाथो का दबाव और बढ़ा दिया और मुझे अपने उपर खीच लिया!अब हमदोनो ही अपने कन्त्रोल मे नही थे!उन्होने मेरी ड्रेस और फिर ब्रा को भी खोल दिया और फिर मेरे दोनो बुब्स अपने हाथो मे लेकर मसलने लगे और मसलते मसलते कहने लगे कि रचना जी आपकी चुचिया तो आपके दीदी कि चुचियो की डबल है,ओह कितनी मुलायम है, आज मै ईसे पुरी तरह दुह दुन्गा!मै अपने मन मे आपको चोदने की इक्छा कब से ही पाले हुआ था और आज आपको चोद कर मै उसे पुरा कर लुन्गा! मैने कहा की मै भी पुरी चुदकड़ हु और आज आपको पता चल जायेगा!वो मेरे उपर चढ़ गये और मेरी चुचियो को अपने मुह मे दालकर उसका दुध पीने लगे और मेरी मुलायम सी चुचीयो मे अपना दान्त गड़ाने लगे! उन्होने मेरा पजामा भी उतार दिया और अब मेरे शरीर पे केवल एक पैटी थी!मैने भी उनके बदन का सारा कपड़ा उतार दिया और उनका अंडरवियर भी उतारकर उनके काले फ़नफ़नाते लंड को आजाद कर दिया! बाहर आते ही उनका मोटा लंड तन कर खड़ा हो गया और मैने अपने दोनो हाथो से पकड़ कर सहलाने लगी!उनके मुह से सिसकारी निकलने लगी !करीब दो मिनट तक सहलाने के बाद मैने उनका लन्द अपने मुह मे लेकर चुसने लगी! उनका लंड बहुत बड़ा था और शायद सबसे बड़ा जिससे मै अभी तक चुदवा चुकी हु! मैने कहा की ईतने बड़े से लंड को मेरी मुलायम सी चुत कैसे झेलेगी,पता नही दीदी की चुत का क्या हाल हुआ होगा!तो उन्होने कहा कि जरा सब्र किजिये,एक बार चुदवाने के बाद आपको कोइ दुसरा लंड पसन्द नही आयेगा!काफी देर लंड चुसने केबाद मैने अपने चुचियो को उनके मुह के हवाले कर दिया और वो बेकरारी से उसे चुसने लगे और हौले हौले बाईट करने लगे! और उन्गुलियो से मेरी पैन्ती के अन्दर दालकर उपर नीचे करने लगे!मै अब बहुत गरम हो चुकी थी उन्से चोदने के लिये कहा!मै उनके नीचे गई और वो मेरे उपर और फिर मेरी पैंटी उतार दाली ! मैने उनके लंड को पकड़कर अपनी चुत पे अडजस्ट किया !उन्होने एक झटका दिया और मेरे चिकने बुर म्रे उन्होने अपने बड़े से लन्द का सुपारा ढकेल दिया और झटके पे झटके देने लगे!मुझे ज्यादा दर्द नही हुआ क्योकी मेरी चुत चुदवाते चुदवाते काफी फ़ैल चुकी थी!उन्होने मेरी दोनो जान्घो को उठाकर चोदना शुरु कर दिया ! उन्का काला मोटा लंड मेरी बुर मे धसने निकलने लगा और मुझे अपुर्व आनन्द की प्राप्ति होने लगी !सच्मुच चुदवाने मे कितना आनन्द आता है मै बता नही सकती!और अगर आपको मोटा ताजा ,लम्बा और कठोर लन्द मिल जाये तो वो आनन्द दुगुना हो जाता है!उनके लन्द मे ये सारी खुबिया थी!मुझे इतना मजा आ रहा था की मै आपसबको बता नही सकती!अगर मेरी कोइ फ़्रेड मेरी कहानी पड़ रही हो मै स्पेसली कह रही हु की कम से कम एक बार चुदवा कर देखो!फिर तो बिना चुदवाये रहा ना जायेगा! मै उनसे कहने लगी कि जिजु आपके ईस मोटे काले लंड का सचमुच कोइ जबाब नही! उन्होने मुझे नये नये पोज मे चोदना सुरु किया और मै आनन्द के मारे उई उई करने लगी! एक साथ बुर और चुची का मजा लेने के लिये वो मेरे उपर लेट गये ! उनका लन्द मेरे बुर मे धसा हुआ था ,एक हाथ मेरे एक बुब्स को नोच रहे थे और मेरे दुसरे बुब्स को मुह लेकर से चुसे जा रहे थे!साथ ही अपने चुतर को उछाल उछाल कर बुर को पेले भी जा रहे थे !मैने कहा की वाह जिजा जी आपको तो लड़की चोदने का पुरा एक्सपेरियन्स है ,मै तो कायल हो गई आपकी चुदाई की!तो उन्होने कहा कि मै भी आपकी बुर और ईन मुलायम रसभरी चुचियो का दिवाना हो चुका हु!कैसे रहुन्गा अब बिना आपको चोदे बिना!तो मैने कहा की दीदी को यहा छोड़ दिजिये और मुझे अपने साथ ले चलिये और तब मुझे रातभर चोदते रहियेगा क्यु और मै हसने लगी!वो भी हसने लगे !मैने कहाकि अगर मै आज गर्भवती हो गई तो क्या होगा,तो उन्होने कहा कि मै आपसे भी शादी कर लूंगा और दोनो बहनो को एक ही बेड पर सुलाउंगा और बारी बारी से दोनो को ही चोदुंगा!मुझे भी डबल बुर का मजा मिलेगा! और फिर से मेरी चुदाई करने लगे!मैने कहा कि जोर जोर से चोदिये जीजा जी ,मेरी बुर बहुत प्यासी है ऐसे शान्त नही होगी और उन्होने अपनी स्पीड बढा दी और जोर जोर से फ़ुल पेनेट्रेसन केसाथ अपने लंड को मेरी प्यासी चुत मे धकेलने लगे और मै चिल्लाने लगी कि हा ऐसे ही,आह आह उई मा मर गई,आह चोदते रहिये बिल्कुल ऐसे ही आह जिजा जी आह!अपने दोनो हाथो से मै अपनीचुचीयामसलने लगी और वो मेरी चुदाई करते रहे! मुझे चुदवाने मे ईतना मजा पहले कभी नही आया था! उन्होने मुझे मन भर चोदा और अन्त मे अपना सारा क्रीम मेरी चुत मे दाल दिया! !और कहने लगे शायद आज मेरा लंड ईतनी मस्त मस्त बुर को चोदकर पहली बार संतुष्ट हुआ है! मैंने भी कहा कि मेरी चुत आजपहली बार पुरी तरह त्रिप्त हुई है!आपका लंड सचमुच कमाल का है लेकिन आप अगली बार कंडोम लगाकर मुझे चोदियेगा नहि तो मै सच्मुच गाभिन हो जाउन्गी!अभी काफी रात बाकी थी और हमदोनो फिरसे गरम हो रहे थे और ईस सुहानी रात को पुरी तरह रंगीन कर देना चाहते थे! एक बार फिर से तैयार होकर हमदोनो चोदा-चोदी का खेल खेलने लगे!ईस तरह से मेरे जिजा ने मुझे पहली बार चोदा और उसकेबाद तो वे जब भी आते रात को ठहर जाते और मुझे जी भरकर चोद्ते!मै अभी भी कभी कभी छुटियो मे दीदी के यहा जाती और बिना चुदवाये नही लौटती! मेरी कहानी आपको कैसी लगी ,अपने कौमेंट जरुरलिखियेगा!मै अपनी अगली कहानी लेकर जल्दी हि लौटूंगी!तब तक के लिये गुड बाय!! ,

Saturday, May 9, 2009

मेरी पहली चुदाई
हाय मै रचना अपनी पहली चुदाई की कहानी सुनाने जा रही हु! उस समय मै १५ साल की थी! मै दिल्ली की रहने वाली हू और अभी इन्जिनियरीन्ग लास्ट इयर की छात्रा हु! मेरे पिताजी बिजनेस मैन है! हम दोबहने है और बड़ी बहन की शादी हो चुकी है! वो अपने ससुराल मे रह्ती है!मेरा कोइ भाई नही है!मै अपनेमम्मी और पापा के साथ ही रह्ती थी!पापा भी बिजनेस के सिलसिले मे ज्यादातर गायब ही रह्ते थे! मेरेफ्लैट के सामने वाले मकान मे मेरे पापा के फ्रेंड कुछ ही दिनो से रह रहे थे!उनके एक लड़के और एकलड़की थी! लड़की तो बहुत छोटी थी लेकीन लड़का २० साल से कम का नही था!क्योकी वो मेरे पापा केफ्रेंड का लड़का था इसलिये मेरे फ्लैट मे आता जाता रहता था!देखने मे काफी हैन्डसम था और बहुतअछी बौडी थी उसकी!मै भी काफी जवान हो चुकी थी और बहुत सुन्दर दिखती थी!सबके सोने के बाद मैबेड पर लेट कर अक्सर ब्लु फ़िल्मे देखा करती थी और अपनी उन्गुलियो से ही अपनी चुत को शान्त करलिया करती! मेरे बुब्स उस समय भी बहुत बड़े थे! मै तो उस पे लटू हो गई थी और उसके साथ सोने केसपने देखने लगी और सोचती रह्ती कि कैसे अपनी चुत की प्यास कैसे शान्त करु! वो भी मेरे गदरायेजिस्म को चोरी चोरी निहारा करता था!मेरे बड़े बड़े बुब्स किसी भी लड़के को पागल कर देने के लियेकाफी था! धीरे धीरे मेरी उससे बात होने लगी!एक बार वो किसी काम से मेरे फ्लैट मे आया ! उस समयमम्मी बाजार गई हुई थी और मै टीवी देख रही थी!वो भी मेरे कहने पर बैठ कर टीवी देखने लगा!अब मेरामन टीवी पे बिल्कुल भी नही था और सोचने लगी की ईससे अच्छा मौका नही मिलेगा चुदवाने का! मेरादिल जोर जोर से धरक रहा था!उसकी हालत भी मेरे जैसी ही थी ! उसके अन्दर भी खल्बली मची हुइ थीऔर उसका लंड खड़ा हो गया था और उसकी पैत से निकलने के लिये कुलबुला रहा था !हमदोनो धीरे धीरेपास आने लगे और धरकने जोर जोर से धरक रही थी हम्दोनो की!मैने हिम्मत करके उसके जान्घो परअपना हाथ रख दिया और धीरे धीरे सरकाते हुए उसके लंड को पकड़ लिया! उसका पुरा शरीर काप रहाथा!हम दोनो ही जल रहे थे और अपनी आग बुझाने के लिये आतुर हो गये!हम बहुत करीब गये औरगरम सासे आपस मे टकराने लगी ! उसने झट से मेरी बुब्स को पकड़ लिया और दबाने लगा! उसके हाथमेरे बुब्स पे फिसलने लगी और उसके होठ मेरे होठो के रस चुस रहे थे!मैने उसके पैन्त का चैन खोलकरउसके लंड को अपने हाथो मे ले लिया और सहलाने लगी! मै आपको कैसे बताउ क्या हालत हो रही थीमेरी उस समय!मै बहुत ही ज्यादा इक्साईतेद हो चुकी थी! लेकिन उसी समय बेल बज ऊठी!मम्मीबाज़ार से लौट चुकी थी!मेरी इक्छा अधुरी रह गई!लेकीन मैने भी ठान लिया की अब बिना चुदवाये नहीरह सकती!
एक बार जब पापा किसी काम से बाहर गये हुये थे और घर मे सिर्फ मै और मम्मी ही थे,मैने सोचा येअछा मौका है अप्नी चुत की प्यास शान्त करने का! मौका देखकर मैने उसका नम्बर ले लिया ! सोते समय जब मम्मी ने पीने के लिये दुध माँगा तोमैने उस्मे नीन्द की दवा मिला दी ताकि वो सुबह से पहले नही उठ सके और उस लड़के को सारा कुछ बतादिया!जब मम्मी सो गई मैने उसे मिसकौल कर दिया!रात काफी अन्धेरी थी और करीब ११ बज चुके थे! उसके घरवाले भी सो चुके थे! उसे मै अपने बेडरूम मे ले गई!सिर्फ दो ही बेडरूम थे! एक मे मम्मी पापासोते थे और एक मे हम!मम्मी के बेडरूम का दरवाजा मैने बाहर से लौक कर दिया ताकि वो अचानक उठ जाये!अब मेरी चुदाई का रास्ता क्लियर था!हमने भी अपना दरवाजा अन्दर से लौक कर दिया और एकदुसरे की बाहो मे समा गये!रात के ११ बज रहे थे और काली रात,और दो प्यासे बदन ,ये मौका मै कैसेचुक सकती थी!एक दुसरे से उलझ गये हमदोनो!हमदोनो ही नन्गे हो गये!काली रात थी तो कुछ दिखाईनही दे रहा था!वो मेरे बुब्स मसलने लगा और मै उतेजना के मारे चतपताने लगी!वो कह रहा था कि तेरीगदराई हुई जिस्म के बारे मे सोचकर मैने जाने कितनी बार मुठ मारी है! वो मेरे ठीक उपर था औरबिल्कुल नन्गा!उसके लन्द मेरे जान्घो और चुत को टच कर रही थी मै कह नही सकती कि कितनीउतेजीत हो चुकी थी मै!वो भी होश मे कहा था! उसकी सासे बहुत जोर जोर से धरक रही थी!मैने उसकेलंड को अपने दोनो हाथो से सहलाने लगी और वो अपने काबु से बाहर होने लगा! काफी देर सहलाने केबाद मै उसके लंड को अपने मुह मे लेकर चुसने लगी!सामान्य से बड़ा था उसका गरम लंड और मेरे मुह मेठीक से नही पा रहा था! बहुत देर तक चुसती रही मै, कैसे कहु कितना मजा रहा था मुझे!वो नीचेखड़ा था और मै बेड पर लेट कर चुसे जा रही थी!वो अपने लंड को मेरे मुह मे ही आगे पीछे करनेलगा!बहुत बड़ा होने के कारण मेरे मुह मे पुरा समा नही पा रहा था लेकिन वो धक्के मार मार कर मेरे कंठतक उतार दे रहा था और मै अकबका जाती थी! - मिनत तक वो मेरे मुह को ही चुत समझकर पेलतारहा!मुझसे अब नही रहा जा रहा था और उसे बेड पर खीच लिया अपने उपर और बोली कि अब नही रुकसकती,चोदना शुरु करो!मेरे कहते ही उसने अपना लंड मेरी बुर मे धीरे से उतार दिया!मै दर्द से छटपटाऊठी और कराहने लगी और उसका लंड अपने चुत से अलग कर दिया! बहुत खुन भी निकल गया!उसनेमुझसे पूछा की पहले कभी किसी से भी नही चुदवाई थी और मैने कहा की नही,पहली बार मुझे तुम हीचोद रहे हो!मैने उससे पूछा कि क्या उसने ईससे पहले किसी लड़की को चोदा था तो उसने कहा कि हा मैपहले भी लड़की के चुत का मजा ले चुका हु! उसने मुझे समझाया की शुरु मे दर्द होगा लेकिन बाद मे सहीहो जायेगा!उसने फिर से अपना कड़ा लन्द मेरी चिकनी चुत मे धकेल दिया!मुझे रोना गया लेकिनउस दर्द को मै सह गई! उसने धीरे धीरे चोदना सुरु किया और मुझे मजा आने लगी! सार दर्द गायब होगया और मुझे असीम आन्न्द आने लगा! वो मेरे उपर लेट गया और अपने चेस्ट से मेरे बुब्स को रगड़नेलगा! फिर उसने मेरे बुब्स को अपने मुह मे ले कर चुसने लगा और हौले हौले अपना दात मेरी मुलायमचुचियो मे गड़ाने लगा! उसके लंड मेरे बुर मे घुसे हुये थे और आगे पीछे हो रहे थे! अपने चूतर को उछालउछाल कर मुझे चोदे जा रहा था!मै भी अपनी चुतर उचका उचका कर चुदवा रही थी!मै पुरी तरह से गरमहो चुकी थी! कभी मै उसे नीचे पटक देती तो कभी वो! बुरी तरह से एक दुसरे से उलझे हुए थे हम!उसकेचोदने की रफ्तार धीरे धीरे तेज होने लगी ! उसका बड़ा और कठोर लन्द मेरे मुलायम चुत को फाड़े जा रहेथे!अपने लंड को मेरे चुत की पुरी गहराइ मे उतार उतार कर पेल रहा था वह और बहुत जोर जोर से धक्कालगा रहा था!मै उई उई कर रही थी और अपनी पहली चुदाई का पुरा मजा ले रही थी!वो भी फ़्रेश चुत काजमकर मजा उठा रहा था!वो बिच बिच मे पूछता भी कि मजा रहा हैऔर मै कह्ती कि पूछो मत कयाहाल है मेरी आह आह बस चोदते रहो नन स्टौप!वो और तेजी से चोदने लगता! वो कह्ता कि रच्चो तेरीकुव्वारी चुत का स्वाद मै बयान नही कर सकता! एकाएक उसके चोदने की रफ्तार बहुत तेज हो गई ,पुरीबेड हिलने लगी ,मेरी सिसकारिया निकलने लगी और उसने मेरा मुह ढाप दिया! मै बेड मे धसी जा रहीथी और उसका सारा बोझ उठाये हुए थी!मै उतेजना मे जोर जोर से चोदो,उई उई , फाड़ डालो चुत को,ओहबहुत मजा रहा है,पेलते रहो,रुको मत, और ना जाने क्या क्या बदबदाती रही और वो पेलता रहा ननस्टौप!अन्त मे उसने मुझे जोर से पकड़ लिया और मेरी चुत मे झड़ गया! अभी करीब रात के १२ बज रहेथे और मेरी चुत पुरी तरह से शान्त नही हुई थी!वो भी मेरी मस्त मस्त चुत और बुब्स का फिर से मजाउठाना चाहता था और रात भी बहुत बची हुई थी!वो फिर से तैयार हो गया और एक बार फिर से चोदनेलगा!वो कह रहा था की रच्चो मै तेरी बड़ी बड़ी रसीली चुचीया और चिकने मिल्की चुत का स्वाद कभीनही भुल पाउन्गा! मुझसे शादी कर लो डारलिंग और फिर मै तुम्हे दिन रात चोदता रहुन्गा! हमदोनो हीरात गवाना नही चाह्ते थे!उस रात मै करीब बजे रात तक चुदवाती रही और फिर वो अपने फलैट मेचला गया! मेरी दोनो चुचियाँ फुल कर लाल हो गई थी और मेरी चुत अन्दर से छिल गई थी!ये थी मेरीपहली चुदाई!इसके बाद तो मै काफी चुदक्कद हो गई थी! उसने पता नही कितनी बार मेरी चिकनी चुतका आनन्द उठाया और मै उसके गरम कठोर लंड का!
,

Wednesday, May 6, 2009

कौलेज मे मेरी चुदाई
हाय,मेरा नाम रचना है! मै इन्जिनियरिन्ग फ़ाइनल इयर की छात्रा हुं ! मै आज आपको कौलेज मे अपनी चुदाई की एक कहानी सुना रही हु !वैसे ये मेरी पहली चुदाई नही है ! मै पहले भी कई बार चुदवा चुकी हु कौलेज मे आने से पहले भी ! देखने मे मै बहुत ही सेक्सी हु और मेरे बुब्स बहुत बड़े है!अभी मेरी उम्र २१ साल है! मेरे फ्रेडस कहते है की यार तेरी बुब्स तो आयसा टाकीया और उरमिला से भी बडी है !रियली मै बहुत जयादा से़क्सी हु!मेरा फ़िगर लड़कों को पागल कर देने के लिये काफी है!मै चुदवाये बिना रह नही सकती ये मेरी कमजोरी है!!मै अपने रुमेट के साथ गर्ल्स होस्टेल मे रह्ती हु! अब मै अपनी कहनी पे आती हु!
बात तब की है जब मै सेकण्ड इयर मे थी! मै हमेसा आगे की बेन्च पर ही बैठती थी! मेरे कौलेज मे गर्ल्स ,ब्वायज के मुकाबले बहुत कम है लडके हमेसा लड़कियों को पटाने मे लगे रह्ते है और बुब्स को देखकर लार टपकाते रहते है !मुझे शुरु से ही एक लड़का बहुत पसन्द था!वो काफी हैन्डसम था और पड़ने मे भी बहुत अछा था! लेकिन बहुत ही ज्यादा सर्मिला था! वो भी हमेशा आगे की बेन्च पर ही बैठता था! मै तो सुरु से ही उसपे लाइन मारती थी लेकिन वो हमेशा अपना सर झुका लेता,मै जब भी उसे देखती !मुझे नही पता की उसके मन मे क्या है ? लेकिन वो इतना भोला भी नही था जितना दिखता था! इक बार मै और वो काफी नजदीक बैठे हुये थे !सर पढ़ा रहे थे लेकिन मेरा ध्यान पढ़ने मे बिल्कुल ही नही था ! वो भी मुझे बार बार देख रहा था और जब भी मै उसकी तरफ देखती वह बुक्स देखने लगता ! अचानक मेरी नजर उसके पैंट पर पडी! उसका पैंट तना हुअ था और काफी फुला हुआ था!
मै समझ गई कि उसकी नजर मेरे बुब्स पर थी !मैने भी बहुत दिनो से नही चुदवाइ थी इसलिये मै गरम हो गयीऔर चुत फरवाने के लिये बेचैन हो गई ! मै जानती थी कि वो तो बोलेगा ही नही इसलिये मैने अकेला देखकर सिधे अपनी बात कह डाली! और मुझे ग्रीन सिगनल मिल गई! मिलती भी क्यो नही ,सारे लरके मुझे देखकर लार टपकाते थे ! और वो भी मेरे बारे मे सोचकर कितनी बार मुठ मार चुका होगा! हम दोनो ने मिलकर चुदाइ का इक पलान बनाया!मै होस्टल मे रह्ती थी वो भी होस्टल मे ही रहता था इसलिये हमलोग रात को नही निकल सकते थे! वो होस्टल से दुर मुझे एक अछे से होटल मे ले गया!हम दोनो बेड पर लेत गये!वो धीरे धीरे मेरे करीब आकर मेरे बुब्स पर हाथ फेरने लगा और मेरे मुलायम गुलाबी होठो को चुसने लगा! मै भी उसके लंड को सहलाने लगी ! वो कफी इक्साइतेद हो चुका था और मुझ पर भेड़िये की तरह टूट पड़ा! वो अपने कन्त्रोल मे नही था और मेरी चुचियो को बिना मेरे कपड़े हटाए ऐसे मसल रहा था की जैसे उसने आज तक कोइ लड़की नही चोदि है!मै भी पगला चुकी थी और उसके कपड़ो को नोच कर हटा दिया मै भी नन्गी हो गई !वो मेरी बुब्स को ऐसे मसल रहा था कि मेरी तो रुलाइ जा रही थी! लेकीन फिर भी मुझे बहुत मजा रहा था! मै उसे बार बार बोल रही थी कि मेरी चुत को भी शान्त करो लेकिन वो जैसे कुछ सुन हि नहीं रहा था! मेरी चुचिया लाल लाल हो चुकी थी और वो था कि मसले हि जा रहा था!मैने उसकी लंड को सहलाने लगी! बहुत हि कड़ा था उसका लंड!ज्यादा बड़ा तो नही था लेकिन छोटा भी नही था! मै उसके उपर गई और उसके लंड को चुसने लगी! वो आह आह कर रहा था और उछाल उछाल कर मेरे मुह को हि चोद दे रहा था! मैने उससे हसकर कहा भी कि ये मेरा मुह है बुर नही!उसने भी हस दिया ! एकाएक वो मुझे निचे पटक कर मेरे उपर गया और अपने लंड को मेरी दोनो चुचीयों के बिच रगड़ने लगा!मुझे सुरसुराहट होने लगी और मैने अपनी दोनो चुचीयो से उसके लंड को जकड़ लिया!अब उसका गरम लंड मेरी चुचीयो के बीच सरक रहा था!मुझे पता नही की मै होश मे थी या नही! मै ये कहानी लिख रही हु एक हाथ से और मेरी दुसरी हाथ की उन्गली मेरे बुर मे घुसी हुइ है और मेरी चुदाइ कर रही है!मेरी चुचीया बहुत बड़ी थी जैसा की मै पहले भी लिख चुकी हु और उसके लंड को पुरी तरह से कसे हुये थी!उसका कड़ा लंड मेरी चिकनी चिकनी चुचीयो के बीच फिसल रहा था! मेरे बुब्स का मजा लेने के बाद उसने मेरी बुर का स्वाद लेना शुरु किया!अपनी दोनो जान्घो को मेरी दोनो जान्घो के बिच कसकर अपना दहकता हुआ लंड मेरे बुर मे डाल दिया! मेरी चुदाइ शुरु हो चुकीथी!वो अपने लंड को झटके दे देकर मेरी चुत मे पेलने लगा!फ़नफ़नाता हुआ उसका लंड मेरी गरम चुत का मजा लेने लगा!मेरी चुत भी बहुत दिनो से प्यासी थी और काफी दिनो बाद लंड का स्वाद चख रही थी!उसके चोदने की रफ्तार कुछ ज्यादा थी! थप्प थप्प की आवाज कमरे मे गुन्ज रही थी!
मुझे कुछ दर्द तो हो रही थी क्युकि वो बहुत तेजी से चोद रहा था मुझे लेकिन उसे कुछ ज्यादा ही दर्द हो रहा था लेकिन अपनी रफ्तार को कम नही कर रहा था!वो बिच मे बडबडा भी रहा था जैसे कि रचना क्या माल हो तुम,क्या बुर है तेरी,आह, मै आज तेरी बुर को फाड़ दुन्गा! आह क्या बुर है!ऐशवर्या ,माधुरी का बुर भी इतना मुलायम नही होगा!आह! आह !आह!वो चोद भी रहा था कुछ ऐसे की आज वह मेरी चुत को फ़ार ही डालेगा!मै उइ मा उइ मा चिला रही थी!बहुत मजा रहा था मुझे सच्मुच! मै भी बडबडा रही थीजैसे की फार दे मेरी बुर,आह,उइ,उइ जोर जोर से चोदो, और जोर से ,आह,आह मेरे राजा!अपनी चूतर ऊठा ऊठा कर चुदवा रही थी मै ताकि उसका पुरा लंड मेरे बुर मे समा सके !मै भी पुरी चुदकड़ थी शायद उसे भी पता चल गया होगा! मै ताजी लंड का पुरा मजा उठा रही थी! कभी मै उसके उपर तो कभी वो मेरे उपर! बेड पर अफरातफरी मची हुइ थी! मेरी दोनो जान्घो को वह अपनी दोनो जान्घो के बीच पुरी तरह से जकरे हुआ था और उश्की दोनो हाथे मेरे बुब्स को मसल रहे थे! तो वो होश मे था और ना हि मै!वो पेले जा रहा था और मै बस पेलवाये जा रही थी! वो भी शायद पहली बुर का ही मजा ले रहा था !मै भी उसे पुरा मजा दे रही थी!बहुत देर तक उसने मेरी मुलायम बुर का मजा लिया! क्या जोश था उसमे मै नही कह सकती! इतनी जोर जोर से मेरी चुत मे अपना लंड धकेलता था मै छटपटा जाती!मेरी चुचीयो का जो हाल उसने किया उसे तो मै ही जानती हु!मेरी दोनो की दोनो चुचियाँ सुज गई थी!मेरी बुर का भी बुरा हाल था और लग रहा था जैसे कि उन्दर से छिल गया है!जो भी हो उसने जी भरकर चोदा मुझे! हम दोनो ही बुरी तरह से थक चुके थे और जोर जोर से हाफ रहे थे!जब वो झड़ने लगा मेरी चुत पुरी तरह भर गई!मै पुरी तरह से सन्तुष्ट हो चुकी थी और शायद वो भी! उसने मुझे इसके बाद न जाने कितनी बार चोदा होगा मुझे याद नही!जब कौलेज मे छुटिया शुरु हुइ तब हमदोनो ही दुसरी जगह चले गये और करीब तीन राते और दिन एकसाथ गुजारी!उसने मेरी जमकर चुदाइ की उन तीन दिनो मे!हमदोनो दिनरात एक दुसरे से पुरे नन्गे होकर चिपके रहते थे!मै अब भी कभी कभी चुदवा लेती हु उससे लेकिन मेरी प्यास और बढ गई है!
अभी तक मै अपने ५ बैचमेट के साथ सो चुकी हु! अगर मेरी चुदाइ आपको पसन्द आइ हो तो कुछ कौमेंट जरुर लिखिएगा! कुछ दिनो मे मै अपनी पहली चुदाइ की कहानी भी बताउन्गी तब मै सिर्फ 15 साल की थी!